भूमि विवाद के निपटारे को लेकर डीएम ने सभी अंचल अधिकारी के साथ की समीक्षात्मक बैठक

जहानाबाद (दिनेश कुमार) : जिले के जिला पदाधिकारी हिमांशु कुमार राय की अध्यक्षता में समाहणालय स्थित सभाकक्ष में भूमि विवाद से संबंधित अंचलवार मामलों की अंचल अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित कर आवश्यक निदेश दिया गया।
बैठक में सर्वप्रथम भूमि सुधार उपसमाहर्ता ने बताया कि भूमि विवाद में अधिकांश मामले जमीन की मापी, रैयतों के बीच सीमांकन, लोक भूमि अतिक्रमण, सरकारी भूमि के आवंटियों को बेदखल किये जाने, गैर मजरूआ मालिक/आम जमीन एवं बकाश्त भूमि पर कब्जा तथा नल-गली एवं छज्जा के निर्माण को लेकर होते हैं।
बैठक में बताया गया कि जहानाबाद जिले में भूमि विवाद को लेकर फरवरी माह में 42 वाद दायर किए जा चुके हैं। अब तक कुल दायर वालों की संख्या 95 है,जिस पर कार्रवाई की जा रही है, तथा अब तक 67 वादों को निष्पादित किया जा चुका है और 28 भूमि विवाद से संबंधित लंबित है।
भूमि विवाद से संबंधित आंकड़ों का आकलन करने के पश्चात जिन अंचल में वादों की संख्या अधिक थी उन्हें त्वरित रूप से निष्पादित करने का आदेश दिया गया, जिसमें जहानाबाद सदर अंचल में 14, मखदुमपुर अंचल में 15, घोषी एवं काको अंचल में शून्य, रतनी फरीदपुर अंचल में 06, मोदनगंज अंचल में 07 एवं हुलासगंज अंचल में 04 वाद माह फरवरी में प्राप्त हुआ हैं। सभी अंचल पदाधिकारियों को निर्देशित किया कि भूमि विवाद से संबंधित मामलों के निष्पादन एवं अनुश्रवण के मामले में किसी प्रकार की शिथिलता ना बरतें। अतः उन्होंने सभी अंचल अधिकारियों को निदेशित किया कि संबंधित थानाध्यक्ष भूमि विवाद को लेकर शनिवार को किये जाने वाले बैठक में बेहतर समन्वय स्थापित करें और संयुक्त रूप से क्षेत्र का भ्रमण एवं निरीक्षण करें।
बैठक में पुलिस अधिकारी श्री दीपक रंजन ने सर्वाधिक संवेदनशील इलाकों पर कड़ी निगरानी रखने का निर्देश दिया ताकि कोई भी भूमि विवाद हिंसक रूप ना लें और सामाजिक सौहार्द बना रहें।
जिन मामलों का निष्पादन अंचल स्तर पर नहीं किया जा सकता, न्यायालय में विचाराधीन है, जिसमें किसी प्रकार का निर्णय नहीं लिया जा सकता है, ऐसे भूमि को स्थिति में दं.प्र.सं. की धारा 144 के तहत कार्रवाई हेतु भी प्रस्ताव दिया जा सकता है तथा इसमें विशेष रूप से सतर्क रहने का निदेश दिया गया। उन्होंने बताया कि यदि मामला सरकारी भूमि के अतिक्रमण का हो तो सरकारी भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराकर दोनों पक्षों के बीच शान्ति कायम की जा सकती है तथा सरकारी भूमि को भी अतिक्रमण से बचाया जा सकता है, जो अंचल अधिकारी का मुख्य दायित्व है, जिसे करना सुनिश्चित करेंगे।
भूमि विवाद से संबंधित समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर त्वरित गति से निराकरण करना सुनिश्चित करेगे तथा इसमें किसी भी तरह का लापरवाही नहीं किये जाने का निदेश दिया गया। सभी परिक्ष्यमान राजस्व अधिकारियों को निदेश दिया गया कि वो भी मामले को अच्छे से समझे और भूमि विवाद के मामलों को संवेदनशील एवं गंभीरता से लेते हुए संबंधित अंचल अधिकारियों को सहयोग प्रदान कर निष्पादित करेंगे।
उक्त बैठक में जिला पदाधिकारी एवं पुलिस अधिकारी के साथ-साथ अपर समाहर्ता श्री अरविंद मंडल, भूमि सुधार उप समाहर्ता शिब्बतुल्लाह, अनुमंडल पदाधिकारी श्री मनोज कुमार सहित सभी अंचल अधिकारी एवं थाना एवं ओ०पी० प्रभारी उपस्थित थे।

Search Khabar [ सच का सर्च सच के साथ,सर्च खबर आपके पास ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query