एके 47 पकड़ने के बाद भी हूती विद्रोहियों तक पहुंचा ईरानी हथियार

रियाद : सऊदी अरब के नेतृत्‍व में गठबंधन सेना ने यमन की राजधानी सना में हूती विद्रोहियों के एक शिविर को हवाई हमला करके तबाह कर दिया है। सऊदी अरब ईरान समर्थक हूती विद्रोहियों के खिलाफ लगातार हवाई हमले कर रहा है। सऊदी गठबंधन सेना ने कहा कि उसने विद्रोहियों का हथियारों का गोदाम तबाह कर दिया है। अभी कुछ दिन पहले ही अमेरिका ने हूती विद्रोहियों को भेजी जा रही 1400 एके-47 राइफल को अरब सागर में एक मछली पकड़ने वाली नौका से पकड़ा था।

सऊदी प्रेस एजेंसी के मुताबिक हूती विद्रोही अल तशरीफात कैंप में हथियार भेजने की कोशिश कर रहे थे और इसी के जवाब में तत्‍काल हवाई हमला किया गया। यमन में साल 2014 से गृहयुद्ध चल रहा है और वहां सरकार के खिलाफ ईरान समर्थक हूती विद्रोही जंग छेड़े हुए हैं। हूती विद्रोहियों ने देश के ज्‍यादातर उत्‍तरी हिस्‍से को अपने कब्‍जे में कर लिया है। ये विद्रोही अक्‍सर सऊदी अरब पर ड्रोन हमले करते रहते हैं।

हूती विद्रोहियों के मिसाइल हमले में सऊदी के दो लोगों की मौत
हूती विद्रोहियों के हमले में सऊदी अरब को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। सऊदी अरब लंबे समय से आरोप लगाता रहा है कि ईरान हूती व्रिदोहियों को घातक हथियार मुहैया करा रहा है। वहीं हिज्‍बुल्‍ला हूती विद्रोहियों को ट्रेनिंग दे रहा है। ईरान ने सऊदी अरब के इन आरोपों को खारिज किया है। शनिवार को हूती विद्रोहियों के मिसाइल हमले में सऊदी अरब के दो लोगों की मौत हो गई थी। तीन साल में यह अपनी तरह की पहली मौत थी।

इसके बाद सऊदी अरब ने हूती विद्रोहियों के खिलाफ बड़ा सैन्‍य अभियान शुरू किया था। इससे पहले भारत से सटे अरब सागर में एके-47 की एक बड़ी तस्करी पकड़ी गई थी। अमेरिकी नौसेना ने पिछले दिनों बताया था कि उसकी पांचवी फ्लीट ने गश्ती के दौरान उत्तरी अरब सागर से 1400 एके-47 राइफलें और गोला–बारूद को बरामद किया है। ये राइफलें एक मछली पकड़ने वाली बोट पर छिपाई गईं थीं। बड़ी बात यह है कि यह बोट किसी भी देश में रजिस्ट्रेशन के बिना समुद्र में घूम रही थी। नौसेना ने दावा किया है कि इन एके-47 राइफलों को यमन में हूती विद्रोहियों को भेजा जा रहा था। शक जताया गया है कि इनका निर्माण ईरान में किया गया है।

ईरानी जहाज से असॉल्ट राइफलें, लाइट मशीन गन मिले
अधिकारियों ने बताया था कि उन्हें इस जहाज से वाणिज्यिक शिपिंग और उनके नेविगेशन को खतरा पैदा होने का अंदेशा था। ऐसे में आदेश मिलने पर जहाज से चालक दल और हथियारों को हटाकर उसे समुद्र में डूबा दिया गया। इस साल 11 फरवरी को अमेरिकी नौसेना के गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर यूएसएस विंस्टर्न एस चर्चिल ने अंतराष्ट्रीय कानून के अनुसार, सोमालिया के तट पर एक स्टेटलेस शिप से हथियारों की बड़ी बरामदगी की थी। इसमें एके-47 असॉल्ट राइफलें, लाइट मशीन गन, रॉकेट-प्रोपेल्ड ग्रेनेड लॉन्चर और भारी स्नाइपर राइफल सहित कई दूसरे हथियार मिले थे।

Search Khabar [ सच का सर्च सच के साथ,सर्च खबर आपके पास ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query