शिवम ठाकुर सुरक्षित पहुंच गया यूक्रेन संकट के बचकर गाजियाबाद का रहने वाला

लोनी: लोनी के नवीन कुंज में रहने वाले प्रमोद ठाकुर की खुशी का बुधवार को कोई ठिकाना नहीं रहा। कई दिनों से यूक्रेन में फंसा (indian student in ukraine) उनका बेटा शिवम ठाकुर बुधवार को गाजियाबाद (ghaziabad student in ukraine) सकुशल लौट आया। वह हंगरी के बुडापेस्ट एयरपोर्ट से फ्लाइट के जरिए मंगलवार देर रात दिल्ली पहुंचा। वहां से वह बुधवार तड़के लोनी पहुंचा। शिवम के घर आने से परिवार वाले बहुत खुश हैं। शिवम के पिता ने बेटे की वापसी पर भारत सरकार (Indian government) का आभार जताया है। शिवम ठाकुर ने बताया कि यूक्रेन के उझारोद में वह एमबीबीएस (Mbbs in ukraine) कर रहे थे। हालात खराब होने पर वह वापस आने को तैयार थे। उनकी टिकट 26 फरवरी की थी, लेकिन 24 फरवरी को युद्ध शुरू हो गया। जिस दिन युद्ध शुरू हुआ उस दिन दो दिन का खाना बचा था, जिसे सभी साथियों ने आपस में मिल बांट कर खाया।

इसके बाद से वे हॉस्टल के बंकर में रहे और भूखे ही पोलैंड के रास्ते जाने के लिए तैयार हुए लेकिन उन्हे पोलैंड में एंट्री नहीं मिली और उन्हें वापस उझारोद आना पड़ा था। वह चार दिन तक बिना खाना खाए सिर्फ पानी के सहारे रहे। सोमवार रात उन्होंने हंगरी के लिए बस पकड़ी और सुबह करीब 7 बजे वे हंगरी के बुडापेस्ट पहुंचे, जहां भारतीय एंबेसी ने उन्हें खाना दिया और रहने की व्यवस्था भी की। उसके बाद वह एयरपोर्ट पर आ गए।

बेटे की याद में नहीं आती थी नींद
शिवम के पिता ने बताया कि जब से युद्ध शुरू हुआ, तब से बेटे की चिंता में वे लोग चैन से सो नहीं पाते थे। मंगलवार को जब पता चला कि बेटा रात को फ्लाइट से भारत के लिए रवाना होगा तो राहत की सांस ली। सुबह जब बेटा घर आया तो उसे देखकर आंसू निकल गए। शिवम ने बताया कि दिल्ली एयरपोर्ट पर भारत सरकार के प्रतिनिधिमंडल ने सभी स्टूडेंट्स का स्वागत किया।

Search Khabar [ सच का सर्च सच के साथ,सर्च खबर आपके पास ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query