ट्रेन में कब मिलेगा बेड रोल

नई दिल्ली: कोरोना काल (Corona Period) में लगाई गई अधिकतर बंदिशें खत्म हो गई हैं। दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) में अब सब कुछ पहले जैसा हो गया है। दिल्ली में बसों (DTC Bus) में भी अब खड़े हो कर यात्रा कर सकते हैं। इसी के साथ ट्रेनों (Train) में भी अब जनरल (Second Class) डिब्बे में पुरानी व्यवस्था बहाल होने का आर्डर आ गया है। लेकिन, ट्रेन के एसी डिब्बों (AC Class) में यात्रा करने वाले अभी भी परेशान हैं। उनका सबसे बड़ा सवाल है कि इन डिब्बों (Train AC Coach) में मिलने वाले बेड रोल (Bed Roll) की व्यवस्था कब से बहाल होगी?

इस वजह से ट्रेन से यात्रा करना ही छोड़ दिया
दिल्ली में एक कंपनी में मिड मैनेजमेंट लेवल पर काम करने वाले तुषार नाथ की व्यथा कुछ अलग है। उनके परिवार में चार सदस्य हैं। मियां-बीबी और दो बच्चे। वह मूल रूप से झारखंड के रांची (Ranchi) के पास के हैं। साल में वह एक बार तो रांची जाते ही हैं। पहले ट्रेन के एसी डिब्बे (Train AC Coach) में सफर करते हुए झारखंड जाते थे। अब हवाई जहाज (Aeroplane) से जाते हैं। क्यों रेल में यात्रा (Railway Journey) करनी छोड़ दी, इस वह बताते हैं कि एसी क्लास में बेड रोल नहीं होना सबसे बड़ी वजह है। उनका कहना है कि चार लोगों के लिए ट्रेन में कंबल चादर ले कर जाना थोड़ा असुविधाजनक है। इस वजह से एक अलग बैग बन जाता है। सामान बढ़ जाता है।
प्लेन का टिकट ट्रेन से मिलता है सस्ता, मजा दूना
तुषार नाथ का कहना है कि इन दिनों ट्रेन के भाड़े में काफी बढ़ोतरी हो गई है। लेकिन सुविधा बढ़ोतरी के नाम पर जीरो। जिस तरह ट्रेन में चार महीने पहले रिजर्वेशन लेते हैं, उसी तरह यदि प्लेन का टिकट लेते हैं तो ट्रेन के एसी क्लास से सस्ता टिकट मिल जाता है। ट्रेन से रांची जाने में दूसरे दिन पहुंचते हैं। प्लेन से दो घंटे में। उपर से बच्चों का मजा भी हो जाता है कि हवाई जहाज में सफर किया।

पहले क्या मिलता था एसी क्लास में
कोरोना काल से पहले ट्रेन के एसी क्लास में सफर करने पर बेड रोल फ्री मिलता था। गरीब रथ में इसके लिए मामूली चार्ज देना होता था। बेड रोल में दो चादर, एक तकिया, एक कंबल और एक छोटा तौलिया हुआ करता था। कोरोना काल में जब ट्रेन की सुविधा फिर से शुरू की गई तो बेड रोल देना बंद कर दिया गया। उस समय रेलवे का कहना था कि बेड रोल से कोरोना का संक्रमण फैल सकता है।
क्या क्या सुविधाएं फिर से बहाल हुई
रेलवे से सबसे पहले स्पेशल ट्रेनों के नाम पर महत्वपूर्ण ट्रेनों की सुविधा बहाल की। उसके बाद इन ट्रेनों में पेंट्री कार की सुविधा शुरू की। हालांकि पहले सिर्फ रेडी टू इट खाना ही मिलता था। अब तो पेंट्री की सभी सुविधा शुरू कर दी गई है। मतलब चाय कॉफी से लेकर तमाम व्यंजन रेलगाड़ी में ही बना कर बेचे जा रहे हैं।

जनरल डिब्बा में पहले की तरह यात्रा
रेलवे ने अब जनरल डिब्बों में पहले की तरह यात्रा का आदेश निकाल दिया है। कोरोना काल में अनारक्षित डिब्बों (Unreserved Coach) में भी रिजर्वेशन करवा कर यात्रा करनी पड़ती थी। अब जनरल टिकट कटाइए और इसमें यात्रा कर लीजिए।

Search Khabar [ सच का सर्च सच के साथ,सर्च खबर आपके पास ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Become a Journalist
Feedback/Query